(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

उसकी मोहब्बत पे मेरा हक तो नहीं लेकिन,
दिल करता हैं जी भरके उसका इंतज़ार करूँ 


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

कभी कभी हम किसी के लिए उतना भी जरूरी नहीं होते,जितना हम खुद को समझ लेते हैं. 

हमें मालूम था, की इश्क़ क्या होता है,बस एक तुम मिलेऔर ज़िन्दगी मोहब्बत बन गयी। 


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

यूँ तो आदत नहीं, मुझे मुड़के देखने की,पर तुझे देखा तो ऐसा लगा के,एकबार और देख लूँ…. 


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

कोई अपना तुम्हे छोड़कर चला जाये,तो तुम क्या करोगे…… 
प्यारा सा जवाब : अपना कभी छोड़कर नहीं जाता,और ो छोड़ कर जाता है वो अपना नहीं होता…. 

ये ज़िन्दगी चल तो रही थी…. पर तेरे आने से,मैंने जीना शुरू किया… 


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

ये कैसा सिलसिला है, तेरे मेरे दरमियान,के फासले भी बहुत हैं, और मोहब्बत भी….. 


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

हम तुम्हे पाकर खोना नहीं चाहते,जुदाई में आपकी रोना नहीं चाहते,आप हमारे ही रहना हमेशा प्यार बनकर,हम भी किसी और का होना नहीं चाहते… 


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

इश्क़ वे हुआ, कोहरा जैसे,तुम्हारे शिवा कुछ दीखता ही नहीं…. 


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

ना चढ़ की चाहत, न सितारों की फ़रमाईश,हर जनम में बस तू मिले, बस इतनी सी है ख्वाहिश…. 

ना मेरा दिल बुरा था, ना ही उसमे कुछ बुराई थी…. सब मुक़क़द्दर का खेल था,किशमत में ही जुदाई थी… 


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

यहाँ लोग अपनी गलती नहीं मानते,किसी को अपना क्या मानेंगे… 


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *